अलीगढ के विकास भवन में बड़े ही हर्षाेल्लास के साथ मनाया गया 73 वां गणतंत्र दिवस, चारों ओर सांस्‍कृतिक कार्यक्रमों की धूम

अलीगढ में विकास भवन में 73 वां गणतंत्र दिवस बड़े ही हर्षाेल्लास के साथ मनाया गया। जिला विकास अधिकारी भरत कुमार मिश्र ने राष्ट्र ध्वज फहराया।

1950 में हुआ भारत के नए संविधान का सूत्रपात

स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के सम्मान समारोह को सम्बोधित करते हुए डीडीओ ने कहा कि आज ही के दिन सन 1950 को भारत गणतांत्रिक राज्य घोषित किया गया था। इसी दिन स्वतन्त्र भारत का नया संविधान अपनाकर एक नए युग का सूत्रपात किया गया था। उन्होंने कहा कि भारतीय संविधान विविधिताओं से भरा हुआ दुनिया का अपनी तरह का अलग संविधान है। भारत के संविधान को अपने अस्तित्व में आने के लिए पूरे 2 साल 11 माह और 18 दिन लगे। इसके बाद संविधान 26 जनवरी 1950 को पूरे देश मे लागू हुआ। आने वाली पीढ़ी इस अनोखी विरासत को भूल न जाय, इसलिए प्रतिवर्ष राष्ट्रीय आयोजन किये जाते हैं। उन्होंने कहा कि सभी को संविधान का अध्ययन अवश्य करना चाहिए। संविधान द्वारा प्रदत्त अधिकारों के साथ कर्तव्यों को ध्यान में रखते हुए समाज को शासकीय सेवाओं का लाभ देना चाहिए।

ये लोग रहे उपस्‍थित

कार्यक्रम में कुवंर प्रमोद सेनानी अध्यक्ष स्वतंत्रता सेनानी फाउण्डेशन, अजीत गुप्त निर्मल, दिनेष चौधरी, पुष्पेन्द्र चौधरी, सुरेन्द्र शर्मा, हंसराज सचदेवा एवं योगेन्द्र सिंह चौहान को सम्मानित करते हुए जिला विकास अधिकारी ने उनको प्रषस्ति पत्र प्रदान किया और देष की आजादी के लिए अपने प्राण न्योछावर करने वाले महान स्वतंत्रता स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को नमन करते हुए भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इस अवसर पर डीपीआरओ धनंजय जायसवाल, डीपीओ श्रेयष कुमार, जिला दिव्यांगजन सषक्तीकरण अधिकारी वी.पी. सत्यार्थी, सुरेन्द्र चौधरी, सुषीला देवी समेत विकास भवन के अन्य अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहे।

Related Articles

Back to top button