घर पर सोलर प्लांट लगाना, अब है बहुत आसान।

अब घर पर सोलर प्लांट लगा कर आप अपनी बिजली स्वयं बना सकते हैं और स्वालम्बी बन कर देश के विकास में अपना योगदान दे सकते हैं।

जाने क्या है पीएम सूर्यघर: मुफ्त बिजली योजना 

13 फरवरी 2024 को हमारे प्रधानमन्त्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने भारत के लोगों के निरंतर विकास और भलाई के लिए पीएम सूर्य घर: मुफ्त बिजली योजना की शुरुआत की थी।

प्रधानमन्त्री मोदी ने एक्स पर अपनी एक पोस्ट के माध्यम से बताया कि “75000 करोड़ रूपए से अधिक के निवेश वाली इस परियोजना का लक्ष्य हर महीने 300 यूनिट तक मुफ्त बिजली प्रदान कर 1 करोड़ घरों को रोशन करना है।”

क्या है यह योजना और इससे हमें क्या फायदा होगा।

आइये जाने की क्या है यह योजना और इससे हमें क्या फायदा होगा।

15 फरवरी 2024 को प्रधानमन्त्री जी द्वारा शुरू की गयी इस योजना का उद्देश्य भारत के लोगों को घरों के लिए मुफ्त बिजली उपलब्ध कराना है। यह मुफ्त बिजली सौर्य ऊर्जा के रूप में है। जिसके लिए सरकार इस योजना द्वारा लोगों को उनके घरों की छतों पर सोलर प्लांट लगाने के लिए सब्सिडी देती है।

इस योजना के अंतर्गत दी जाने वाली सब्सिडी, घरों पर लगने वाले सोलर प्लांट की लागत का 40% तक कवर करती है। इससे घर पर सोलर प्लांट लगाना, अब है बहुत आसान।

इस योजना से हमें कैसे लाभ मिलेगा।

आइये अब जानते हैं कि इस योजना से हमें कैसे लाभ मिलेगा।

अगर हम अपने घरों में लगी परम्परागत बिजली की बात करें तो लगातार बढ़ता बिजली का बिल हम सभी के लिए एक बड़ी समस्या है। इससे निपटने के दो ही तरीके है कि या तो हम बिजली का इस्तेमाल बंद कर दें जो नामुमकिन है या फिर ऊर्जा के किसी अक्षय भण्डार से बिजली लें। तो उसके लिए सौर ऊर्जा है न। सरकार भी इसी ओर ध्यान दे रही है।

इस योजना के माध्यम से हम अपने घरों पर सोलर प्लांट लगा कर बिजली प्राप्त कर सकते हैं।

इसके लिए हमें तय करना होगा कि हमें कितनी बिजली की आवश्यकता है उसी के अनुसार हम अपना सोलर प्लांट का किलोवाट तय करते हैं।

अगर हम महीने में 150 यूनिट तक ही बिजली खर्च करते हैं तो उसके हिसाब से हमें 1 से 2 किलोवाट के सोलर प्लांट चाहिए।

150 से 300 यूनिट तक के लिए 2 से 3 किलोवाट और 300 यूनिट से ऊपर के लिए 3 किलोवाट से ऊपर की क्षमता के सोलर प्लांट हमें चाहिए।

कौन लगाएगा सोलर प्लांट

आइये अब समझते हैं की सोलर प्लांट कौन लगाएगा, उसका पैसा कैसे देना है और सरकार सब्सिडी कब देती है।

जहाँ तक सोलर प्लांट की बात है तो इसे लगवाने का खर्च 40 हज़ार से 60 हज़ार प्रति किलोवाट तक आता है। इस हिसाब से अगर 1 किलोवाट का प्लांट लगवाना है तो खर्च आएगा लगभग 60 हज़ार और 2 किलोवाट के प्लांट पर यह खर्च 1 लाख 20 हज़ार और अगर आपको 3 किलोवाट का प्लांट लगवाना है तो खर्च आएगा लगभग 1 लाख 80 हज़ार रूपए।

इसे लगाने के लिए सरकार आपको सब्सिडी तो देती है पर सब्सिडी आपके खाते में आने में 1 to 1.5 महीने तक लग जाते हैं। तो अब समस्या यह है की इतना पैसा एकदम से आएगा कहाँ से?  इसके लिए भी सरकार ने बैंकों को निर्देश दिए हैं जिससे बहुत ही कम इंटरेस्ट रेट पर आपको सोलर प्लांट लगवाने के लिए लोन मिल जाता है।

इन सभी सोलर प्लांट की लाइफ लगभग 25 साल होती है। पर बीच बीच में आपको पैनल्स को साफ़ करना पड़ सकता है जिसका खर्चा काफी कम होता है पर इससे प्लांट की एफिशिएंसी बनी रहती है। 

सोलर प्लांट लगाने के लिए सरकार से कितनी सब्सिडी मिलती है ?

आइये अब जानते है की कितनी है यह सब्सिडी।

भारत सरकार सोलर प्लांट लगवाने के लिए 2 किलोवाट तक 30 हज़ार प्रति किलोवाट सब्सिडी देती है और उसके ऊपर के किलोवाट के लिए एक फिक्स सब्सिडी देती है। 

अगर आप 1 किलोवाट का प्लांट लगवाते हैं तो यह सब्सिडी होगी 30 हज़ार रूपए, अगर प्लांट 2 किलोवाट का है तो सब्सिडी होगी 60 हज़ार रूपए।  लेकिन 3 किलोवाट या उससे ऊपर के किसी भी किलोवाट के प्लांट के लिए सब्सिडी 78 हज़ार ही रहेगी।

Rooftop Solar Plant Capacity in (KW) Subsidy
1 KilowattRs.30,000/-
2 KilowattRs.60,000/-
3 Kilowatt or above Rs.78,000/-
केंद्र सरकार द्वारा मिलने वाली कुल सब्सिडी

प्रदेश सरकार से मिलने वाली सब्सिडी

इसके साथ ही देश के कई राज्यों में अलग से कुछ सब्सिडी राज्य सरकार द्वारा भी दी जाती है। जैसे अगर उत्तर प्रदेश की बात करें तो 1 किलोवाट के लिए 15 हज़ार की सब्सिडी मिलती है जिससे केंद्र और राज्य सरकार की सब्सिडी मिलकर 45 हज़ार हो जाती है और 2 या उससे ऊपर के किलोवाट के लिए 30 हज़ार की सब्सिडी राज्य सरकार देती है तो 2 किलोवाट पर कुल सब्सिडी 90 हज़ार और 3 किलोवाट पर कुल सब्सिडी 1 लाख 8 हज़ार हो जाती है।

Solar Plant Capacity in (KW)Subsidy by Central Govt.Subsidy by UP Govt.Total Subsidy
1 KilowattRs.30,000/-Rs.15,000/-Rs.45,000/-
2 KilowattRs.60,000/-Rs.30,000/-Rs.90,000/-
3 Kilowatt or aboveRs.78,000/-Rs.30,000/-Rs.1,08,000/-
केंद्र सरकार और उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मिलने वाली कुल सब्सिडी

सोलर प्लांट लगाने के लिए योग्यताएं

अब आपको समझना होगा की क्या आप इस योजना का लाभ उठाने के योग्य हैं भी या नहीं। तो इसके लिए सरकार ने कुछ योग्यताएं दी है अगर आप वह पूरी करते होंगे तो आप आवेदन कर सकते हैं। यह योग्यताएं है:

जैसे कि आप और आपका परिवार भारतीय नागरिक होना चाहिए।

आपके पास एक घर होना चाहिए जिसकी छत सोलर प्लांट लगाने के लिए उपयुक्त हो। यानी आपकी छत ऐसी जगह हो जहाँ भरपूर धूप आती हो और इतनी बड़ी हो कि सोलर प्लांट लग सकें। सामान्यता 100 स्क्वायर फ़ीट प्रति किलोवाट के हिसाब से आपके पास जगह होनी चाहिए।

आपके पास एक वैध बिजली कनेक्शन होना चाहिए और जो आवेदक के ही नाम हो और आवेदक के ही नाम से बिजली का बिल आता हो और बैंक अकाउंट भी आवेदक के नाम ही हो जिसमे सब्सिडी प्राप्त होगी।

और आपने सोलर पैनलों के लिए किसी अन्य सब्सिडी का लाभ नहीं उठाया हो।

ऑन-ग्रिड/ ऑफ-ग्रिड

आवेदन करने से पहले आपको एक बात की जानकारी होनी चाहिए की जो आवेदन आप कर रहे हैं वह ऑन-ग्रिड के लिए करें न कि ऑफ-ग्रिड के लिए क्यूंकि ऑन-ग्रिड पर ही आपको अपने बिजली के बिल में छूट प्राप्त होगी। On-Grid में आपका सोलर प्लांट जितनी बिजली का निर्माण करता है वह पॉवर ग्रिड को भेज दी जाती है और जितनी बिजली आप पावर हाउस से लेकर इस्तेमाल करते है उसमे से आपके द्वारा पावर ग्रिड भेजी गयी बिजली का मूल्य घटा कर आपको हर बिल पर छूट मिल जाती है।

कैसे करें आवेदन ?

अब जानते हैं कि आपको आवेदन कैसे करना है।

आवेदन करने के लिए केवल एक ही तरीक़ा है है और वह है पीएम् सूर्यघर का सरकारी पोर्टल । केवल इसी पोर्टल पर ही आप आवेदन करके सोलर पैनल्स लगवा सकते हैं। आवेदन करने के लिए आपके पास कुछ प्रपत्र तैयार होने चाहिए।

  1. आपका अपना पहचान पत्र,
  2. एड्रेस प्रूफ,
  3. बिजली का बिल और
  4. छत के मालिकाना हक़ का प्रमाण पत्र।

क्या है आवेदन प्रक्रिया ?

पोर्टल पर आवेदन पत्र में सारी सूचनाएं भर कर सबमिट करनी होती हैं। कुछ समय में जब आपको DISCOM से अप्रूवल मिल जाता है तो आप अपने DISCOM में Registered किसी भी वेंडर से प्लांट लगवा सकते हैं।  इस बात का ध्यान रखें की वेंडर नेशनल पोर्टल पर पंजीकृत हो अन्यथा वारंटी और सब्सिडी की सुविधा से आप वंचित रह जाएंगे।

एक बार जब सोलर प्लांट लग जाए तो प्लांट की डिटेल भर कर नेट मीटर के लिए अप्लाई कर दें। नेट मीटर लगने के बाद आपके डिस्कॉम द्वारा इंस्पेक्शन किया जाता है और कमीशनिंग रिपोर्ट जनरेट होती है। इसको प्राप्त करने के बाद पोर्टल पर अपनी बैंक डिटेल और कैंसिल चेक की स्कैन्ड इमेज सबमिट करनी होती है। इस प्रक्रिया के 30 दिन के बाद आपके खाते में सब्सिडी की राशि आपको प्राप्त हो जायेगी।

तो आज ही सोलर रूफटॉप योजना का लाभ उठाएं और सौर ऊर्जा अपनाकर अपने भविष्य को सुरक्षित और पर्यावरण को स्वच्छ बनाएं।

Related Articles

Back to top button