तेज रफ्तार ऑटो डिवाइडर से टकराकर पलटा, ड्राइवर समेत चार गंभीर रूप से घायल…

सुबह करीब 8 बजे पड़ाव से गोलगड्डा की ओर जा रही आटो अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकरा कर पलट गई। हादसे में चालक समेत पांच लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। पास में पुलिस पिकेट पर मौजूद पुलिसकर्मी मौके पर गए और स्थानीय लोगों की मदद से सभी घायलों को उपचार के लिए मंडलीय अस्पताल ले जाया गया।

आदमपुर थाना क्षेत्र के भदऊचुंगी तिराहे के पास शनिवार सुबह तेज रफ्तार आटो डिवाइडर से टकरा कर पलट गई। हादसे में आटो में बैठे मऊ निवासी हरेंद्र नाथ यादव (50) की मौत हो गई। वहीं आटो चालक समेत चार लोग घायल हो गए। जिन्हें इलाज के लिए मंडलीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

सुबह करीब 8.00 बजे पड़ाव से गोलगड्डा की ओर जा रही आटो अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकरा कर पलट गई। हादसे में चालक समेत पांच लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। पास में पुलिस पिकेट पर मौजूद पुलिसकर्मी मौके पर गए और स्थानीय लोगों की मदद से सभी घायलों को उपचार के लिए मंडलीय अस्पताल ले जाया गया। जहां पर डाक्टरों ने हरेंद्र नाथ यादव को मृत घोषित कर दिया। चौकी प्रभारी आदमपुर बृजेश सिंह ने बताया कि हरेंद्र नाथ के परिजनों से बात कर उन्हें घटना की जानकारी दे दी गई है। लाश को कब्जे में लेकर मोरचरी में रखवा दिया गया है। हादसे में घायल हुए लोगों के परिजनों से सम्पर्क किया जा रहा है।

राजघाट से कज्जाकपुरा तक नहीं है स्पीड ब्रेकर 

पड़ाव से शहर को जोड़ने वाले जीटी रोड पर अमूमन घटनाएं ओवर स्पीडिंग के कारण होती है। आटो पलटते वक्त मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि पड़ाव की ओर से सवारी बैठा कर आ रहे आटो की रफ्तार तेज थी। भदऊचुंगी के पास मोड़ आने पर आटो अनियंत्रित हो गई और डिवाइडर से टकराकर पलट गई। दरअसल, राजघाट पुल के उत्तरी छोर के बाद कज्जाकपुरा तक जीटी रोड पर स्पीड ब्रेकर नहीं है। जिसके कारण पुल से उतरते ही कार, आटो और बाइक चालक अंधाधुन ओवर स्पीडिंग करते हैं। जिसके कारण वह हादसों को दावत देते हैं।

Related Articles

Back to top button